SARKARI RASTA

         

                             Name of the Post : Agnipath Agniveer Recruitment 2022

 

                          Information  Armed Forces Recruitment Through Agnipath Scheme has Recently Invited to Online Application Form for the Post of Agniveer (46000 Post) Recruitment 2022.Agnipath Agniveer Recruitment 2022

Armed Forces Recruitment Through Agnipath Scheme

Agnipath Agniveers Recruitment 2022

 

WWW.SARKARIRASTA.COM

Application Fee

  • General, OBC Candidates : Rs. NA
  • SC, ST Candidates : Rs. NA
  • Payment
  •   Pay the Examination Fee Through Cast at E Challan or Debit Card, Credit Card, Net Banking
Important Dates

  • Scheme Announced : 14 June 2022
  • Application Start : 01/07/2022
  • Application Last Date : 30/07/2022
  • Age Limit as on

        • Min. Age : 17.5 Yrs.
        • Max. Age : 23 Yrs.
    •  
      • Qualification
      • Candidates Passed Class 10th (High School) Exam from Recognized Board.
      • Total Vacancy : 46000 Post

        Years Monthly Package In Hand 30% Fund
        First 30,000/- 21000/- 9000/-
        Second 33,000/- 23100/- 9900/-
        Third 36,500/- 25580/- 10950/-
        Fourth 40,000/- 28000/- 12000/-

        IMPORTANT LINKS

        Apply Online

        Click Here

        Download Short Notification

        Click Here

        Official Website

        Navy | Army | Air Force

        JOIN  TELEGRAM

        Click Here

  1. भारतीय सेना के तीनों अंगों में युवाओं की भर्ती के लिए केंद्र सरकार ने अग्नीपथ योजना पेश की है। अग्नीपथ के रास्ते युवा देश के प्रभारी बन सकेंगे। 1 साल में इसके तहत 40000 भर्तियां होंगी। इन सैनिकों को अग्निवीर नाम दिया गया है। चयनित युवा 4 साल तक सेना में सेवा दे सकेंगे। संविदा के आधार पर होने वाली इस भर्ती में शुरुआत में ₹30000 वेतन मिलेगा जो चौथे वर्ष तक ₹40000 हो जाएगा। सेवा अवधि पूरी होने पर उन्हें 11.71 लाख रुपए का कर मुक्त सेवा निधि पैकेज भी मिलेगा। रक्षा संबंधी मंत्रिमंडल समिति की मंजूरी के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अग्नीपथ की औपचारिक घोषणा की। भर्ती अखिल भारतीय चयन समिति के तहत होगी।

 

Selection Process

  • अभ्यर्थी का नामांकन 4 साल के लिए होगा सेना की चयन प्रक्रिया का ही पालन होगा मेरिट में 4 साल सेवा के आधार पर केंद्रीकृत व पारदर्शी मूल्यांकन किया जाएगा। 25% को आगे मौका मूल्यांकन के आधार पर: 25% आगे 15 साल के लिए चुने जाएंगे शेष 75% आर्थिक व आकर्षक पैकेज के साथ सेवा निर्मित होंगे। अग्नि वीरों को राज्य में केंद्रीय मंत्रालय की नौकरियों में प्राथमिकता दी जाएगी।

रक्षा मंत्री ने बताया भर्ती प्रक्रिया

रक्षा मंत्री ने बताया भर्ती प्रक्रिया में आमूलचूल बदलाव से सैनिकों की भर्ती शुरू में 4 साल के लिए होगी, लेकिन बेहतर प्रदर्शन करने वाले करीब 25% को आगे सेना में नियमित कर दिया जाएगा। रक्षा मंत्री ने बताया कि यह जवान 4 साल के बाद स्वस्थ शारीरिक व मानसिक स्थिति और आधुनिक तकनीकी कौशल के साथ समाज के विभिन्न हिस्सों में अपने बेहतर योगदान के लिए तैयार रहेंगे। वायु सेना और नौसेना में युवा महिलाओं की भर्ती भी की जाएगी। टूर ऑफ ड्यूटी के नाम से जाने जाने वाली इस योजना को अग्नीपथ के नए नाम से तीनों सेनाओं के प्रमुखों को उपस्थिति में दोबारा शुरू किया गया। कोरोना काल में जब भर्तियां रुकी थी तब व्यापक विचार-विमर्श के बाद नई योजना की घोषणा की गई थी।

  1. अग्निवीर 4 साल बाद सेना से बाहर हो जाएंगे, उसके बाद क्या करेंगे, क्या गलत रास्ते पर नहीं जाएंगे?
    अग्निवीर में से 25 पर्सेंट को सेना में रेगुलर कर लिया जाएगा जबकि 75 पर्सेंट बाहर होंगे। गृह मंत्रालय ने ऐलान किया है कि उन्हें सीएपीएफ और असम राइफल्स में प्राथमिकता दी जाएगी। यूपी और उत्तराखंड सरकार ने भी राज्य पुलिस में प्राथमिकता देने की बात कही है। चार साल बाद उनके पास 11.7 लाख रुपये का बैंक बैलेंस भी होगा। जिसका इस्तेमाल वे आगे अपना काम करने के लिए कर सकते हैं।
  2. अग्निवीर ऑल इंडिया ऑल क्लास बेस पर आएंगे। पुराना रेजिमेंटेशन सिस्टम खत्म होगा जबकि सेना नाम, नमक, निशान पर चलती है। क्या लगाव खत्म नहीं होगा?
    इंडियन आर्मी के वाइस चीफ लेफ्टिनेंट जनरल बी.एस. राजू ने कहा कि रेजिमेंटेशन का मतलब सिर्फ एक समुदाय से आने वाले लोग ही नहीं है। इसका मतलब है कि साथ रहना, साथ खाना, साथ बैठना, साथ ट्रेनिंग करना, साथ लड़ना। अब भी उनमें यह लगाव बना रहेगा। वह साढ़े तीन साल साथ रहेंगे और जो 25 पर्सेंट जो परमानेंट होंगे वह बटालियन में ही रहेंगे। अभी भी सेना में 75 पर्सेंट यूनिट में ऑल इंडिया ऑल क्लास ही हैं। फाइटिंग फॉर्मेंशन में कुछ फिक्स्ड क्लास हैं। अगर हम राष्ट्रीय राइफल को देखें तो उसमें अलग अलग रेजिमेंट से आकर लोग काउंटर इनसरजेंसी ऑपरेशन भी कर रहे हैं, लाइन ऑफ कंट्रोल में भी हैं और अब तो लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल में भी तैनात हैं।
  3. अग्निपथ के तहत भर्ती कब शुरू होगी और कितने लोगों की होगी?
    आर्मी की रिक्रूटमेंट रैली 90 दिन में हो जाएगी। करीब 180 दिन बाद पहले चरण के अग्निवीर रिक्रूटमेंट सेंटर में पहुंच जाएंगे और एक साल में अग्निवीर भारतीय सेना की बटालियन का हिस्सा हो जाएंगे। पहले साल आर्मी में 40 हजार, नेवी में 3 हजार और एयरफोर्स में करीब 3500 अग्निवीरों की भर्ती होगी।
  4. क्या आर्मी में उम्र की 21 साल की सीमा जीडी के लिए ही हैं, क्लर्क और ट्रेडमैन के लिए क्या उम्र है?
    आर्मी ने साफ किया है कि सभी भर्तियां अग्निपथ के तहत ही होंगी। और सबके लिए उम्र की सीमा साढ़े सत्रह साल से 21 साल के बीच ही है।
  5. भर्ती का दिसंबर 2019 में नोटिफिकेशन आया था 20 साल की सर्विस के लिए। लिखित, फिजिकल, मेडिकल सब होगा, पीएलएस भी आ गई थी, अब क्या होगा?
    सभी पुरानी प्रक्रियाएं अब आगे नहीं बढ़ेंगी। अग्निपथ के तहत ही सभी भर्ती होंगे और उसके लिए 90 दिन में रिक्रूटमेंट रैली होगी। अग्निपथ के तहत ही अप्लाई करना होगा।
  6. दो साल से एयरफोर्स एनरोलमेंट लिस्ट का इंतजार कर रहे हैं, आगे क्या?
    अग्ननिपथ के तहत की आर्मी, नेवी और भर्ती होंगी। पुरानी प्रक्रिया में अब आगे कुछ नहीं होगा।
  7. क्या आर्मी का वह एग्जाम होगा जिसका मेडिकल और फिजिकल पहले हो गया था?
    नए सिरे से अग्निपथ के लिए अप्लाई करना होगा। 90 दिन में आर्मी की पहली रिक्रूटमेंट रैली हो जाएगी।
  8. 10 वीं 12 वीं पास करेंगे अग्निवीर बनेंगे, आगे पढ़ना हो तो क्या करेंगे?
    4 साल में सेना में रहते उन्हें स्किल ट्रेनिंग दी जाएगी। शिक्षा मंत्रालय ने कहा है कि उनके लिए तीन साल का स्किल ट्रेनिंग आधारित ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स शुरू किया जाएगा। इसे इग्नू बनाएगा और चलाएगा। अग्निवीरों को पहले साल ग्रेजुएशन सर्टिफिकेट, दूसरे साल ग्रेजुएशन डिप्लोमा और तीसरे साल ग्रेजुएशन डिग्री मिल जाएगी।
  9. सेना में अग्निवीर हर साल भर्ती होंगे, महज 25 पर्सेंट परमानेंट होंगे तो एक ऐसा वक्त आएगा जब अग्निवीर ज्यादा और परमानेंट सैनिक कम हो जाएंगे?
    इंडियन आर्मी के वाइस चीफ ने कहा कि अधिकतम 50 पर्सेंट ही अग्नवीर होंगे और यह रेशियो अधिकतम 50 : 50 रहेगा। इससे ज्यादा नहीं होगा। अगर आगे कोई दिक्कत आती है तो जरूरी बदलाव के लिए भी हम तैयार हैं।
  10. एयरफोर्स में एयरमैन का एग्जाम देने वाले लोगों का अब क्या होगा?
    सेना ने साफ किया कि अब सभी भर्तियां अग्निपथ स्कीम के तहत ही होंगी और इससे यह साफ है कि पुराने एग्जाम की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ेगी।
  11. उन लोगों का क्या होगा जो सेना में भर्ती के लिए मेडिकल और फिजिकल टेस्ट पास कर चुके हैं एग्जाम का इंतजार कर रहे हैं?
    अब सेना में सभी भर्तियां अग्निपथ स्कीम के जरिए ही होंगी और भर्ती के लिए युवाओं को अग्निपथ स्कीम के तहत ही अप्लाई करना होगा। पुराने मेडिकल या फिजकल टेस्ट को नहीं मान्य नहीं होंगे।
  12. पिछले 2 साल से सेना में कोई भर्ती नहीं हुई है क्या सेना में जाने वाले इच्छुक लोगों को उम्र में छूट मिलेगी?
    युवाओं की मांगों में एक यह भी है कि उम्र में छूट दी जाए क्योंकि दो साल से भर्ती नहीं हुई है। हालांकि सरकार ने भी माना है कि कोविड की वजह से भर्ती रुकी रही लेकिन अग्निपथ स्कीम के तहत भर्ती में उम्र में किसी भी तरह की छूट की घोषणा नहीं की गई है। साढ़े 17 साल से 21 साल के बीच के युवा ही अग्निपथ में अप्लाई कर पाएंगे।
  13. सेना में अस्थायी नौकरी के भरोसे क्या युवा इसमें आने को लेकर उत्सुक होंगे?
    एयरफोर्स चीफ ने कहा कि हम युवाओं को एक साथ तीनों मौकें दे रहे हैं। उन्हें अच्छी सैलरी मिलेगी, चार साल में बैक बैलेंस हो जाएगा। स्किल ट्रेनिंग भी दी जाएगी। ट्रेनिंग के क्रेडिट पॉइंट उन्हें मिलेंगे। यह चार साल बाद हायर एजुकेशन लेने में सहायता करेगा।
  14. अधिकतम उम्र 21 साल रखी गई है तो क्या यह सभी पदों के लिए है?
    सेना ने साफ किया है कि सभी भर्तियां अग्निपथ के तहत होंगी और इसमें भर्ती की उम्र साढ़े 17 साल से 21 साल के बीच ही है।
  15. सेना में परमानेंट होने का कितना चांस है? परमानेंट नहीं होने वाले अग्निवीर 4 साल के बाद क्या करेंगे?
    अग्निवीर के हर बैच से अधिकतम 25 पर्सेंट को परमानेंट करने का विकल्प दिया गया है। बाकी की सर्विस 4 साल की ही रहेगी। लेकिन रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के दिए जवाब के अनुसार, चिंता की बात नहीं है क्योंकि कई मंत्रालय, पीएसयू और कुछ राज्य भी अग्निवीरों को लेने पर सहमत हुए हैं।
  16. क्या सेना की तरह पेंशन और एक्स सर्विसमैन को मिलने वाली दूसरी सुविधाएं मिलेंगी?
    इस स्कीम में ऐसा नहीं है। 4 साल बाद न तो पेंशन मिलेगी, ना ही एक्स सर्विसमैने को मिलने वाली दूसरी सुविधाएं। 4 साल की सर्विस में उन्हें 30 हजार रुपये से लेकर 40 हजार रुपये तक की सैलरी मिलेगी। सेवा निधि स्कीम के तहत जो पैसे जमा होंगे वह उन्हें मिलेंगे।
  17. क्या अग्निपथ स्कीम का उद्देश्य सिर्फ सेना का खर्च कम करना है?
    यह सही है कि डिफेंस बजट का एक बड़ा हिस्सा पेंशन में खर्च हो जाता है और कई बार इस पर चर्चा हुई कि पेंशन का खर्च कम किया जाए ताकि उस पैसे को सेना के मॉर्डनाइजेशन में इस्तेमाल किया जा सके। हालांकि गृहमंत्री राजनाथ सिंह के अनुसार बचत करना उद्देश्य नहीं है। उन्होंने कहा कि आर्म्ड फोर्स की जितनी जरूरत है उतना खर्च करने को तैयार हैं।
DMCA.com Protection Status
error: Content is protected !!